विस्तार में भी सार को देखने का अभ्यास करो तो स्थिति एकरस रहेगी।

Brahma Kumaris