मुख पृष्ठआजादी के अमृत महोत्सव से स्वर्णिम भारत की ओरसादाबाद: दया और करुणा के लिए आध्यात्मिक सशक्तिकरण का किया गया आयोजन

सादाबाद: दया और करुणा के लिए आध्यात्मिक सशक्तिकरण का किया गया आयोजन

सादाबाद(उ. प्र.) एक संकल्प दया और करुणा विषय पर ब्रह्माकुमारीज़ ” शिव शक्ति भवन” में कार्यक्रम हुआ।  जिसमें  माउंट आबू से राजयोगिनी  सीनियर राजयोगा टीचर ब्रह्माकुमारी रुक्मणि दीदी एवं आबू प्रसिद्ध गायक बी. के. रमेश भाई , फर्रुखाबाद से बी. के.शोभा दीदी , हाथरस से सीता दीदी आदि अन्य विशेष गणमान्य उपस्थित रहे।
 कार्यक्रम के शुभारंभ में ही राजयोगिनी रुक्मिणी दीदी ने कहा दया धर्म का मूल है। और अहंकार अधर्म का मूल है। आध्यात्मिकता से जुड़कर ही हम अपने में इन गुणों को जागृत कर सकते हैं परमात्मा ही दया और करुणा के सागर हैं। उनसे ही हम अपने में इतनी दया और करुणा भर सकते हैं कि हर एक के लिए हमारे मन में शुद्ध भावना आ जाए।
 प्रसिद्ध गायक भ्राता बी. के. रमेश जी ने अपने अलौकिक रूहानी गीत “मेरे संग संग चलते है बाबा”  ,जब तक सांसे चलती रहे तेरी याद में रहना है” आदि कई गीतों को अपनी मधुर वाणी के द्वारा प्रस्तुत कर शमा बांध दिया।
फर्रुखाबाद से आयी शोभा दीदी ने कहा कि ब्रह्मा कुमारीज ने राजयोग के माध्यम से देश दुनिया के करोड़ों लोगों के जीवन को परिवर्तित किया है। और आध्यात्मिकता से आत्म विकास की सीख दी है। 
हाथरस जनपद प्रभारी राजयोगिनी ब्रह्माकुमारी सीता दीदी ने अपने आशीर्वचन के द्वारा संस्था का परिचय देते हुए संस्था की गतिविधियों पर प्रकाश डाला, उन्होंने बताया कि कैसे हम परम शक्ति परमात्मा के साथ स्वयं को जोड़कर अपनी आंतरिक ऊर्जा को सक्षम और प्रभावशाली बना सकते हैं,
वही कार्यक्रम के मुरसान के पूर्व चेयरमैन श्री गिर्राज किशोर शर्मा जी, भारतीय स्टेट बैंक मुरसान शाखा प्रबंधक  भ्राता शम्भू दयाल जी, समाजसेवी बहिन गीता गौड़ आदि अतिथियो ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि समाज के उत्थान के लिए आध्यात्मिक सशक्तिकरण बहुत जरूरी है।
मंच संचालन कर रही स्थानीय प्रभारी बी. के. भावना बहिन जी ने सभी को अपनी शुभकामनाएं व्यक्त की। 
कार्यक्रम में मुरसान से बी.के. बबिता बहिन, मिथलेश बहिन,  सतेंद्र भाई, ओमपाल बघेल, पूनम बहिन, राधा बहिन, एकता बहिन, सुभाष शर्मा, धीरज भाई, रामबाबू बघेल, स्नेहलता पचौरी,  रश्मि बहन आदि लोग मौजूद रहे।

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments