सुन्नी: राज्य स्तरीय वार्षिक आध्यात्मिक सम्मेलन

0
41

सुन्नी [शिमला] हिमाचल प्रदेश: दिनांक 8 जून, 2024 को प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के सुन्नी उप सेवा केंद्र द्वारा छठा राज्य स्तरीय वार्षिक आध्यात्मिक सम्मेलन ब्रह्माकुमारीज परिसर के ओम शांति भवन में बड़ी धूमधाम से मनाया गया जिसमें बतौर मुख्य अतिथि प्रदेश के मुख्यमंत्री भाता  सुखविंदर  सिंह सुक्खू को आमंत्रित किया गया था लेकिन उसी दिन अचानक उन्हें सुबह ही राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में भाग लेने के लिए दिल्ली जाना पड़ा । मुख्यमंत्री ने अपरिहार्य कारणों से सम्मेलन में व्यक्तिगत रूप से उपस्थित न होने के लिए खेद व्यक्त किया लेकिन अपने स्थान पर भ्राता राजेश धर्माणी जी माननीय तकनीकी शिक्षा एवं औधोगिक विभाग मंत्री को बतौर मुख्य अतिथि भाग लेने सुन्नी भेजा और उनके हाथ एक लिखित सन्देश भी ब्रह्माकुमारीज सुन्नी के लिए भेजा जो यहाँ उद्धृत किया जाता है :-

“ब्रह्माकुमारी सुन्नी प्रति विशेष सन्देश
मुझे यह जानकर अति प्रसन्नता हुई कि आज दिनांक 8 जून को आपका राज्यस्तरीय वार्षिक आध्यात्मिक सम्मेलन भी है और दिवंगत आदरणीय लक्ष्मी माता जी, जो सुन्नी में ब्रह्माकुमारीज द्वारा की जा रही सेवाओं के निमित बनी, उनका भी चतुर्वावर्षीय अव्यक्त आरोहण दिवस भी है। इस सम्मेलन में मुझे भी आमंत्रित किया गया था और मैंने वादा किया था कि मैं इस आध्यात्मिक कार्यक्रम में अवश्य सम्मिलित होऊंगा और आपने भी इस सम्बन्ध में सारी तैयारियां पूर्ण कर ली होंगी लेकिन शायद विधाता ने मेरे नसीब में यह नहीं लिखा था । मुझे आज अचानक राष्ट्रीय कांग्रेस वर्किंग कमेटी की मीटिंग में भाग लेने के लिए दिल्ली जाना पड़ा है। यह मेरा सौभाग्य होता यदि मैं इस कार्यक्रम में शामिल हो पाता ।
मैंने अपने सहयोगी श्री राजेश धर्माणी जी को अपने स्थान पर इस सम्मेलन में भाग लेने के लिए कहा है जो आप यही समझना कि मैं व्यक्तिगत रूप से आपके बीच उपस्थित हूँ। भविष्य में यदि भगवान ने चाहा तो मैं स्वयं को खुशकिस्मत समझेंगा कि ऐसे अध्यात्मिक सम्मलेन में भाग ले सकूं। मैं जानता हूँ ब्रह्माकुमारी बहने व्यक्ति, समाज, गाँव, प्रदेश, देश और विश्व के लिए समर्पित रूप से अपनी सेवाएँ दिन-रात दे रही हैं। आप बहनें हर व्यक्ति को चिंता मुक्त, भय मुक्त, नशा मुक्त और अंधविश्वास मुक्त करने का भागीरथ प्रयत्न कर रही हैं। मैं आप सब से क्षमा याचना सहित अपनी ओर से इस सम्मेलन की सफलता के लिए अपनी हार्दिक शुभकामनाएं देता हूँ और आदरणीय लक्ष्मी माता जी को श्रद्धा सुमन अर्पित करता हूँ। Sd/- [ सुखविंदर  सिंह सुक्खू । मुख्यमंत्री हिमाचल प्रदेश”

इस अवसर पर ब्रह्माकुमारीज ओम शांति रिट्रीट सेंटर दिल्ली की निदेशिका ब्रह्माकुमारी आशा बहन, अंतरराष्ट्रीय मुख्यालय माउंट आबू से ब्रह्माकुमारीज मीडिया चीफ भ्राता करुणा जी और शांतिवन दादी काटेज से वरिष्ठ राजयोगी भाता प्रकाश जी विशेष रूप से उपस्थित रहे । शहर के गणमान्य व्यक्तियों सहित सुन्नी शहर तथा इसके इर्द-गिर्द 123 गाँव के लगभग 700 भाई बहनों ने इस सम्मेलन में भाग लिया। दिल्ली ओम शांति रिट्रीट सेंटर की निदेशिका ब्रह्माकुमारी आशा बहन ने बहुत ही सारगर्भित प्रवचन दे कर सबको मन्त्र मुग्ध करके रूहानी उर्जा से भरपूर कर दिया। भ्राता करुणा जी ने मीडिया द्वारा की जा रही विश्व सेवा का समाचार सुना कर ब्रह्माकुमारीज द्वारा की जा रही सेवाओं का वर्णन किया । कार्यक्रम के मध्य में दीप प्रज्ज्वलन करके सबको आत्म स्वरूप में स्थित होने का सन्देश दिया गया । 

मुख्यमंत्री की ओर से नियुक्त मुख्य अतिथि भाता राजेश धर्माणी ने अपने उद्बोधन में ब्रह्माकुमारी बहनों की प्रशंसा करते हुए कहा कि ये बहनें समाज को नशा मुक्त, चिंता मुक्त, भय मुक्त और विकार मुक्त बनाने का भागीरथ प्रयत्न कर रही हैं। उन्होंने मधुवन की महिमा करते हुए कहा कि वह एक बार 30-35 अपने विधान सभा साथियों को माउंट आबू ब्रह्माकुमारीज मुख्यालय भ्रमण हेतु ले गए थे जहाँ प्रकाश भाई ने उन्हें अच्छी तरह देखभाल और सेवा की थी जो छाप अभी भी उनके भीतर पड़ी हुई हैं। 

भाता राजेश धर्माणी  ने सबसे पहले 3 मिनट बाबा के कमरे में मैडिटेशन किया और तत्पश्चात लक्ष्मी माता जी जिनका उस दिन चतुर्वावर्षीय अव्यक्त आरोहण दिवस भी था उनको श्रद्धा सुमन अर्पित किये । मंच पर भारी जनसमूह की उपस्थिति में मुख्य अतिथि का तिलक, पुष्प गुच्छ, माला, सम्मान पट्टिका और पगड़ी पहना कर शांतिवन से पधारे भ्राता प्रकाश ने भव्य स्वागत किया। भ्राता रेवा दास ने शब्दों द्वारा आए हुए सभी मेहमानों का स्वागत किया। उन्होंने इस वार्षिक सम्मेलन की सफलता के लिए मंच पर आसीन सभी मेहमानों तथा दूर-दराज से पधारे हुए भाई बहनों का धन्यवाद किया । आपने दिवंगत लक्ष्मी माता जी को श्रद्धांजलि अर्पित करने के पश्चात् एक स्मृति चिन्ह मुख्यमंत्री के लिए तथा दूसरा स्मृति चिन्ह मुख्य अतिथि भ्राता राजेश धर्माणी मंत्री हिमाचल सरकार के लिए दोनों स्मृति चिन्ह उन्हें भेंट किये। अंत में कोटगढ़ से पधारी माताओं-बहनों ने एक पहाड़ी नाटी पर नृत्य पेश किया और तत्पश्चात सभी को ब्रह्मा भोजन भी स्वीकार कराया गया। मंच का संचालन भाता राकेश वरिष्ठ राजयोग फिल्लौर [पंजाब] ने शानदार शायराना अंदाज में किया ।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें