टोंक: ब्रह्माकुमारीज़ में छः दिवसीय किड्स समर कैंप संपन्न

0
133

कैंप में बच्चों के नैतिक, आध्यात्मिक एवं चारित्रिक गुणों को निखारने पर दिया जोर

हमेशा सकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़ते रहना है : बीके अपर्णा दीदी 

अच्छे गुणों और संस्कारों का बीज बोने का यह सही समय है : बीके ऋतु दीदी

टोंक,राजस्थान: प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय की शाखा द्वारा राजयोग भवन में बाल व्यक्तित्व विकास शिविर विषय पर छः दिवसीय किड्स समर कैंप का आयोजन किया गया, जिसमें टोंक शहर व आसपास के गांव के बच्चों ने भाग लिया। 

समर कैंप के दौरान बच्चों के मानसिक, शारीरिक एवं आध्यात्मिक विकास के लिए अनेक प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसमें आध्यात्मिक संवाद सत्र ध्यान सत्र, रचनात्मक कार्यशाला से लेकर नैतिक मूल्य शिक्षा, नृत्य, नाटक, गायन,व्यक्तित्व विकास कहानियों के साथ-साथ ब्रेन जिम, ड्राइंग,वैल्यू गेम्स,एरोबिक्स, प्राणायाम और योग आदि द्वारा बच्चों में कौशल विकसित करने का कार्य किया गया। जिसमें सभी बच्चों ने बढ़ चढ़कर भाग लिया।

कार्यक्रम में सेवा केंद्र प्रभारी ब्रह्माकुमारी अपर्णा दीदी ने कहा अपने जीवन के लक्ष्य को निर्धारित कर उसको प्राप्त करने में लग जाना है। अपने आप से पक्का करो कि मुझे हर एक के साथ प्यार और रिस्पेक्ट से बात करनी है, हमेशा सकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़ते रहना है, किसी के संग दोष में आकर अपना समय बेकार नहीं गवना है, हर कार्य समय पर पूरा करना है, उमंग उत्साह के साथ सहयोग की भावना रखते हुए हर एक को खुशी देनी है। 

कार्यक्रम में ब्रह्माकुमारी ऋतु दीदी ने कहा अच्छे गुणों और संस्कारों का बीज बोने का यह सही समय है। जीवन को श्रेष्ठ दिशा देने का काम इसी अवधि में हो सकता है। हम जैसा बनना चाहें वैसा अपने को बना सकते हैं। राजयोग हमें कर्म कुशल बनाता है उन्होंने कहा यह प्रतिस्पर्धा का जमाना है इसमें सिर्फ सफलता ही नहीं बल्कि असफलता को भी सहन करने की क्षमता हमारे अंदर होनी चाहिए। हमे कभी निराश नहीं होना है। मन को शक्तिशाली बनाकर हम हर प्रकार की समस्या का समाधान कर सकते हैं, साथ ही दीदी ने बच्चों के कई प्रश्नों के उत्तर सहज रीति से देते हुए प्यार से समझाया।

किड्स समर कैंप प्रभारी ब्रह्माकुमारी गुंजन दीदी ने बच्चों को खेल-खेल में अनेक जीवन मूल्यों को समझाते हुए कहा कि आदर्श जीवन बनाकर घर परिवार और समाज का नाम रोशन करना है। तथा उन्होंने राजयोग ध्यान का अभ्यास करवाते हुए कहा कि एकाग्रता के विकास के लिए राजयोग मेडिटेशन महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

कार्यक्रम में बीके सूरज भाई ने कहानियों के माध्यम से बच्चों को सकारात्मक परिवर्तन का महत्व बताया अंत में  सभी बच्चों को गिफ्ट दी गई साथ ही प्रतियोगिता में प्रथम आने वाले को विशेष सौगात दी गई।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें