नाम है ग्वार… पर है बड़ी सेहतदार

0
522

हरी सब्जियां स्वादिष्ट होने के साथ-साथ स्वास्थ्य की दृष्टि से भी फायदेमंद होती हैं। ऐसी ही एक तरकारी ग्वार फली हैं। ग्वारफली का वनस्पतिक नाम साइमोप्सिस टेट्रागोनोलोबा है। ग्वार फली का उपयोग केवल सब्जी बनाने में ही नहीं किया जाता बल्कि इसके औषधीय गुणाों के कारण यह फली कई प्रकार के रोगों से लडऩे और बचाव में भी मददगार होती हैं।
हरे रंग की यह स्वादिष्ट फली कई प्रकार के खनिज तत्व और विटामिन से भरपूर होती है। ग्वारफली में प्राटीन, कार्बोहाइड्रेट, कैल्शियम, मोनो सैचुरैटेड फैटी एसिड, सोडियम, सैचुरैटेड फैटी एसिड, आयरन, फाइबर होता है। इससे ऊर्जा भी उच्च मात्रा में मिलती है।

ग्वारफली खाने के फायदे
ग्वारफली में पाए जाने वाले पौष्टिक गुणों के कारण ही इसके फायदे हमें मिलते हैं। चलिए जानते हैं इसके फायदों के बारे में…

मधुमेह में फायदे
खून में शर्करा का स्तर बढ़ जाने से मधुमेह की समस्या होती है। ग्वारफली की सब्जी का सेवन कर बीमारी के लक्षणों को कम करने में मददगार साबित हो सकती है। इस फली में फाइबर उच्च मात्रा में होता है। जो रक्त में शर्करा के स्तर को बढऩे से रोकने में सहायता करता है। यही कारण है कि मधुमेह के रोगियों को कम से कम सप्ताह में 2 से 3 बार ग्वारफली की सब्जी ज़रूर खानी चाहिए।

ग्वारफली के लाभ पाचन तंत्र के लिए
ग्वारफली में फाइबर की मात्रा अच्छी होने के कारण इसके सेवन से कब्ज, गैस, अपच, एसिडिटी की समस्याओं को दूर करने में मदद मिल सकती है। आंत संबंधी विकारों को दूर करने में भी ग्वारफली की सब्जी का सेवन फायदेमंद माना गया है।

एनीमिया में ग्वारफली के फायदे
शरीर में खून की कमी होने के कारण एनीमिया रोग होने का खतरा रहता है। छोटे बच्चे और महिलाओं में यह समस्या अक्सर देखी जाती है। इस समस्या में ग्वारफली की सब्जी खाना लाभप्रद साबित हो सकता है। ग्वारफली में आयरन भरपूर मात्रा में होता है। यह शरीर में हीमोग्लोबिन के स्तर को बनाए रखने में मदद करता है। यही कारण है कि इसके नियमित सेवन से शरीर में खून की कमी को दूर किया जा सकता है।

हड्डियों के विकास में सहायक
हड्डियों के विकास और मजबूती के लिए ग्वारफली की सब्जी खाना फायदेमंद हो सकता है। इसमें कैल्शियम और फास्फोरस अच्छी मात्रा में पाया जाता है। ये दोनों ही हड्डियों के विकास के लिए ज़रूरी होते हैं। ग्वारफली की सब्जी को अपने आहार में शामिल करने में ऑस्टियोपोरोसिस(हड्डियों से संबंधित बीमारी) से बचाव किया जा सकता है।

मस्तिष्क के लिए ग्वारफली
मस्तिष्क के बेहतर स्वास्थ्य के लिए ग्वारफली बेहद फायदेमंद हो सकती है। ग्वारफली में पाए जाने वाले पौष्टिक गुण हमारे दिमाग की तंत्रिकाओं को तनाव मुक्त रखने में मदद करते हैं। इसके अलावा इसके सेवन से हमारी याद्दाश्त भी तेज होती है।
रक्त परिसंचरण में ग्वारफली की सब्जी के फायदे
रक्त परिसंचरण को बेहतर बनाने में ग्वारफली की सब्जी खाने के फायदे मिल सकते हैं। ग्वारफली की सब्जी का सेवन करने से रक्त में हीमोग्लोबिन का स्तर बढऩे लगता है, इससे रक्त में पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन का संचालन होता है। इसके अलावा इसके सेवन से रक्त से संबंधित विकारों को दूर करने में मदद मिलती है।

ग्वारफली खाने की सही मात्रा और समय
रोजाना आप 30 ग्राम ग्वार फली को अपने आहार में शामिल कर सकते हैं यदि आपको कोई शारीरिक समस्या है तो ग्वारफली की सही मात्रा के बारे में आप अपने डॉक्टर से राय ले सकते हैं। ग्वारफली का सेवन आप सुबह, शाम, दोपहर किसी भी समय कर सकते हैं और बेहतर लाभ पाने के लिए अपने चिकित्सक की सलाह ले सकते हैं।

ग्वारफली की सब्जी खाने के नुकसान

ग्वारफली की सब्जी सेवन करने से हमें लाभ अधिक और नुकसान कम ही देखने को मिलते हैं लेकिन किसी भी खाद्य पदार्थ का अत्यधिक सेवन नुकसानदायक ही होता है। तो चलिए जानते हैं ग्वारफली खाने से क्या-क्या नुकसान देखने को मिल सकते हैं –

  1. इसका अत्यधिक सेवन उल्टी, दस्त का कारण बन सकता है।
  2. कुछ लोगों में ग्वारफली के सेवन के बाद एलर्जी की समस्या उत्पन्न हो सकती है। यदि ऐसा होता है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।
  3. ग्वारफली की सब्जी के अति सेवन से कफ की शिकायत हो सकती है। क्योंकि इसकी तासीर ठंडी होती है।
  4. गंभीर बीमारी के लिए आप दवाइयां ले रहे हैं तो इसके सेवन से पहले डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें