राजयोग से छूट जायेंगे पांचों विकार

0
178

काम : राजयोग से स्वयं के वास्तविक स्वरूप, आत्मा का ज्ञान होने से ये विकार अपने आप दूर हो जाता है।
क्रोध : राजयोग से मन शीतल व शांत होता है। मन का आवेग खत्म होने से क्रोध खत्म हो जाता है।
लोभ : राजयोगी सदा संतुष्ट, संतोषी होता है। उनमें इकठ्ठा करने की प्रवृत्ति समाप्त हो जाती है।
मोह : राजयोग की बहुत बड़ी उपलब्धि है। वह वर्तमान में जीता है। जन्म-जन्मांतर के कर्म का ज्ञान होने से उसमें अनावश्यक मोह नहीं रह जाता है।
अहंकार : राजयोगी का स्वभाव विनम्र और रहम दिल, परोपकारी व दया जैसे गुणों को अपनाता है। जिससे अहंकार का भूत अपने आप भाग जाता है।

राजयोग से लाभ…
चरित्र का विकास, व्यक्तित्व का विकास, मानसिक विकास, आध्यात्मिक विकास होता है।…

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें